Mustard Price: वैश्विक स्तर पर खाद्य तेलों में तेजी और तेल मिलों की खरीदारी से सरसों में उछाल जारी

Mustard Price : विदेशी बाजारों में खाद्य तेलों के दाम तेज बने रहने से घरेलू बाजार में बुधवार को लगातार 5वें कारोबारी दिन सरसों की कीमतें तेज हुई। जयपुर में कंडीशन की सरसों के भाव कल 25 रुपये बढ़कर 5,500 रुपये प्रति क्विंटल हो गए।


Business 29-06-2023  E-Mandi
marketdetails-img

जयपुर में सरसों तेल कच्ची घानी एवं एक्सपेलर की कीमतें बुधवार को लगातार छठे कार्यदिवस में 30-30 रुपये तेज होकर भाव क्रमश: 10,280 रुपये और 10,180 रुपये प्रति क्विंटल हो गए। इस दौरान सरसों खल के दाम 5 रुपये तेज होकर 2590 रुपये प्रति क्विंटल हो गए।

वैश्विक बाजार में खाद्य तेलों की कीमतें तेज हुई हैं, जिस कारण घरेलू बाजार में सरसों एवं इसके तेल की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज की गई। कोटा मंडी में कंडीशन की सरसों के भाव बढ़कर 5,775 रुपये प्रति क्विंटल हो गए, तथा पिछले तीन सप्ताह में इसके भाव 300 रुपये प्रति क्विंटल तक तेज हो चुके हैं।   

व्यापारियों के अनुसार उत्पादक राज्यों में मौसम खराब है, इसलिए सरसों की दैनिक आवक अभी सीमित ही बनी रहेगी। हालांकि मौसम साफ होने के बाद फिर से आवक बढ़ने की उम्मीद है। वैसे भी चालू सीजन में सरसों का उत्पादन अनुमान ज्यादा है, इसलिए किसानों के साथ ही व्यापारियों के पास सरसों का बकाया स्टॉक ज्यादा है। हालांकि सरसों एवं इसके तेल की कीमतों में तेजी, मंदी काफी हद तक आयातित खाद्वय तेलों के दाम पर भी निर्भर करेगी।

सरसों तेल में मांग बनी रहने से घरेलू बाजार में ब्रांडेड तेल मिलों ने सरसों की खरीद कीमतों में आज 25 से 50 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की। अन्य खाद्य तेलों की कीमतों में आई तेजी से मलेशियाई पाम तेल वायदा 2 फीसदी से अधिक बढ़कर बंद हुआ।

वैश्विक बाजार में खाद्य तेलों की कीमतें तेज

बर्सा मलेशिया डेरिवेटिव्स एक्सचेंज (बीएमडी) में सितंबर महीने वायदा अनुबंध में पाम तेल के दाम 81 रिगिंट यानी की 2.20 फीसदी तेज होकर 3,756 रिंगिट प्रति टन हो गए, जोकि 19 जून के बाद का उच्चतम स्तर है। इस दौरान डालियान कमोडिटी एक्सचेंज पर सोया तेल के सबसे सक्रिय वायदा अनुबंध में 0.8 फीसदी की वृद्धि हुई, जबकि इसके पाम तेल वायदा अनुबंध में 2.3 फीसदी की वृद्धि हुई। शिकागो बोर्ड ऑफ ट्रेड पर सोया तेल की कीमतें 0.4 फीसदी तेज हो गई।

जानकारों के अनुसार अमेरिकी कच्चे तेल के भंडार में उम्मीद से ज्यादा गिरावट की उद्योग की रिपोर्ट के बाद बुधवार को कच्चे तेल में तेजी आई, जिससे सोया तेल की कीमतों को मजबूती मिली। 

इंडोनेशिया व्यापार मंत्रालय के अनुसार 1-15 जुलाई की अवधि के लिए इंडोनेशिया ने क्रूड पाम तेल (सीपीओ) का संदर्भ मूल्य 747.23 डॉलर प्रति टन निर्धारित किया है, जो वर्तमान में 723.45 डॉलर से अधिक है। निजी कंपनी एमस्पेक एग्री मलेशिया के अनुसार 1-25 जून के दौरान मलेशियाई पाम तेल उत्पादों का निर्यात पिछले महीने की समान अवधि की तुलना में 4.5 फीसदी घट गया। उधर कार्गो सर्वेक्षक इंटरटेक टेस्टिंग सर्विसेज ने कहा कि इसी अवधि के दौरान निर्यात में 8.7 फीसदी की गिरावट आई है।

सरसों की आवक स्थिर

देशभर की मंडियों में सरसों की दैनिक आवक बुधवार को पांच लाख बोरियों की हुई, जबकि इसके पिछले कारोबारी दिवस में आवक इतनी ही लाख बोरियों की हुई थी। कुल आवकों में से प्रमुख उत्पादक राज्य राजस्थान की मंडियों में 2.35 लाख बोरी, मध्य प्रदेश की मंडियों में 65 हजार बोरी, उत्तर प्रदेश की मंडियों में 55 हजार बोरी, पंजाब एवं हरियाणा की मंडियों में 35 हजार बोरी तथा गुजरात में 20 हजार बोरी, एवं अन्य राज्यों की मंडियों में 90 हजार बोरियों की आवक हुई।

Mustard

Similar Posts


भारत तंजानिया, जिबूती, गिनी बिसाऊ को चावल की चुनिंदा किस्मों का निर्यात करेगा

एक आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार, केंद्र सरकार ने तंजानिया को 30,000 टन गैर-बासमती सफेद चावल...


फार्म टू फोर्क: कृषि आपूर्ति श्रृंखलाओं को आकार देने में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार समझौतों की भूमिका

व्यापार समझौतों से लाभ केवल तभी मिलता है, जब पूरक घरेलू नीतियों के साथ बनाया जाता है।


व्यापार संगठन एसईए का कहना है कि सरसों का रकबा 5 फीसदी बढ़ा है।

उत्तर प्रदेश में सरसों के क्षेत्रफल में साल-दर-साल सबसे अधिक 27% की वृद्धि दर्ज की गई है,...


सोया तेल शिपमेंट बढ़ने से भारत का जनवरी में पाम तेल का आयात 3 महीने के निचले स्तर पर पहुंचा

भारत का पाम तेल आयात जनवरी में तीन महीने के निचले स्तर पर गिर गया क्योंकि कच्चे पाम तेल (स...


कर्नाटक, महाराष्ट्र की मंडियों में नई फसल की आवक होने से चने की कीमतें मजबूत हो सकती हैं

उत्पादन कम होने की आशंका है लेकिन शून्य शुल्क वाली पीली मटर के आयात से कीमतें नियंत्रित रह...


मोजाम्बिक की दो कंपनियों के बीच विवाद से भारत में दालों का आयात बाधित, कीमतें बढ़ीं

2022-23 में अरहर की फसल कम होने से भारत की आयात मांग बढ़ने की संभावना है और व्यापारी अब इस...


Mustard Mandi Prices: तेल मिलों की कमजोर मांग से सरसों की कीमतें 3 दिन से स्थिर, देखें तेजी-मंदी की...

तेल मिलों की कमजोर मांग से घरेलू बाजार में कल गुरुवार को लगातार तीसरे दिन सरसों की कीमतें...